सेक्स समस्या और समाधान

आज पूरी दुनिया यौन‍रोगों से पीड़ित है। भारत में ही करीब दस करोड़ व्यक्तियों के यौन विकारों से पीड़ित होने की संभावना है। ऐसे मामलों में दिक्कत यह होती है कि रोगी खुद इसे प्रकट नहीं करना चाहता भारतीय पुरुष यदि जल्द ही अपने खान-पान की आदतों में सुधार नहीं लाते हैं और नियमित व्यायाम को अपनी दिनचर्या का हिस्सा नहीं बनाते हैं तो 2025 तक दुनिया में सबसे ज्यादा सेक्स समस्याओं से पीड़ित व्यक्ति भारत में होंगे।
यह चेतावनी भले ही अच्छी नहीं लगे लेकिन यह कड़वी सच्चाई है कि एशिया में सबसे ज्यादा सेक्स समस्याओं के शिकार सर्वाधिक व्यक्ति भारत में हैं। हाल में स्वीडन के गोटेबर्ग शहर में संपन्न दसवीं ‘वर्ल्ड कांग्रेस फॉर सेक्सुएल हेल्थ’ में बताया गया कि दुनिया में सबसे ज्यादा सेक्स समस्याओं के शिकार अधिकतर व्यक्ति एशिया, अफ्रीका और उत्तर अमेरिका में हैं
एक अंतरराष्ट्रीय सम्मेलन में एक शोध में यह आशंका व्यक्त की गई है जिसमें 2025 तक सबसे ज्यादा सेक्स समस्याओं से पीड़ित व्यक्तियों की सर्वाधिक संख्या भारत में होगी। इसके लिए जिम्मेवार कारणों में ग्लोबल वार्मिंग समेत भारतीयों की अनियमित जीवन शैली है।

पुरुष के लिंग में उत्तेजना न आना, उत्तेजना आकर शीघ्र ही खत्म हो जाना, उत्तेजना आते ही वीर्य निकल जाना आदि परूषों में सेक्स समस्याओं के लक्षण हैं । इस प्रकार की परिस्थिति में पुरुष, स्त्री के संपर्क में आने से कतराता है या आता भी है तो शरम महसूस करता है।यौनपरक सम्भोग में पर्याप्त आन्न्द पाने के लिए जब पुरूष का लिंग खड़ा नहीं हो पाता या खड़ा होकर रूक नहीं पाता तो उसे नपुंसकता भी कहते हैं जोकि परूषों के लियें सेक्स समस्या का एक खतरनाक स्तर होता है जिसको शीघ्र दूर करना अत्यंत आवश्यक है

पुरुष के वीर्य में शुक्राणु होते हैं। ये शुक्राणु स्त्री के डिम्बाणु को निषेचित कर गर्भ धारण के लिये जिम्मेदार होते हैं। वीर्य में इन शुक्राणुओं की तादाद कम होने को शुक्राणु अल्पता की स्थिति कहा जाता है। शुक्राणु अल्पता को ओलिगोस्पर्मिया कहते हैं। लेकिन अगर वीर्य में शुक्राणुओं की मौजूदगी ही नहीं है तो इसे एज़ूस्पर्मिया संग्या दी जाती है। ऐसे पुरुष संतान पैदा करने योग्य नहीं होते हैं। यह भी परूषों के लिए एक गंभीर सेक्स समस्या है

स्त्री की ठंडी पड चुकी सेक्स भावना low libido स्स्त्रियों के लिए एक गंभीर सेक्स समस्या है अनुभवी चिकित्सकों का मत है कि मेनोपोज(ऋतु निवृत्ति) के बाद हारमोन संतुलन बिगड जाने से स्त्रियां सेक्स-विमुख हो जाती हैं।पुरुष के प्रति आकर्षण में गिरावट आ जाती है। बहुत सी स्त्रियों में तो मेनोपोज के पहिले ही काम वासना का स्तर बहुत नीचे आ जाता है। दूसरी और पुरुष का सेक्स ड्राईव बना रहता है।पुरुषों के लिये यौन सक्रियता काल महिलाओं की बनिस्बत ज्यादा लंबा होता है। जो लोग ज्यादा सेक्स-सक्रिय रहते हैं उनके अधिक स्वस्थ रहने की उम्मीद ज्यादा रहती है। पुरुषों में अच्छे स्वास्थ्य का संबंध उनकी यौन सक्रियता से जुडा रहता है। समान स्वस्थ-यौन संबंध पुरुषों और महिलाओं में एक समान नहीं होते हैं। अगर एक पुरुष ५५ साल की उम्र तक पूरी तरह स्वस्थ है और यौन सक्रियता कायम है तो उसके जीवन में यौन सक्रियता ५-७ साल और बढ जाया करती है। लेकिन महिलाओं के मामले में अच्छे स्वास्थ्य की महिला का सेक्स जीवन खराब स्वास्थ्य वाली महिला की तुलना में सिर्फ़ ३ या ४ साल बढता है।

चिकित्सा विग्यान का सबसे ज्यादा ध्यान पुरुषों के से़क्स ड्राईव को बढाने वाली दवाओं की खोज में लगा हुआ है। महिलाओं मे सेक्स के प्रति अनिच्छा loss of libido दूर करने वाले तत्वों की खोज भी अहम विषय है। यह समझ लेना जरूरी है कि स्त्री हो या पुरुष सेक्स में संतुष्टि का स्तर सबका अलग-अलग होता है।

कारण

वो लोग देखे हैं जो ८० साल कि उम्र में भी सेक्स करते हैं उनका सेक्स क्यूँ नहीं ख़तम हुआ | तो मैं आपको आज इसका पूरा विज्ञान बताता हूँ |
हर सात साल में मनुष्य के शरीर में बदलाव होते हैं
0 से ७ साल में सेक्स का कोई अनुभव नहीं होता |
७ से १४ साल के बीच सेक्स के बारे में समझ पैदा होती है
( इस वक़्त बच्चे का रुझान शरीर में होने वाले बदलाव कि तरफ होता है)
१४ से २१ साल के बीच सेक्स तूफ़ान पे होता है | इस वक़्त उसे ज़रूरत होती है कुछ अच्छे मार्गदर्शन की यदि इस समय व्यक्ति को अच्चा मार्गदर्शन नही मिल सका तब वह गलत अवधारणा का शिकार हो कर अपना भविष्य बर्बाद कर सकता है

अश्लील चलचित्र, साहित्य, विज्ञापन- ये मनुष्य की आंखों पर आक्रमण करते हैं, उसकी सुप्त काम-वृत्ति को उद्दीप्त करते हैं। इसलिए शिष्ट लोग चाहते हैं, ऐसा न हो। किंतु प्रतिप्रश्न होता है, इस अर्थ-प्रधान युग में ऐसा क्यों न हो?

मनुष्य की दुर्बलता यह है कि वह काम-वृत्ति को उभारने वाले वृत्तों से अधिक आकृष्ट होता है। और गलत विचार मन में पलकर हस्तमैथुन करने लगता है जिसके कारण वह अपना योन जीवन बर्बाद कर लेता है और विवाहहित जीवन तक पहुंचने से पहले ही सब कुछ खो चूका होता है

सेक्स समस्या का समाधान

विशेष रूप से आधुनिक चिकित्सा यौन रोगों के लिए एक पूर्ण इलाज नहीं है. और यह एक सार्वभौमिक सच्चाई यह है कि अस्तित्व और वृद्धि के अपने लंबे साल से यूनानी दवाओं द्वारा संभावित इलाज व उपचार किया गया है

आज हर दूसरे व्यक्ति को एक समस्या है अंग्रेज़ी दवाओं की तुलना में अब प्राकृतिक दवाई की ओर मुड़ रहा है क्योंकि कृत्रिम जीवन शैली में उनकी बीमारियों का सफल और सुरक्षित इलाज केवल प्राक्रतिक दवाइयां हैं क्योंकि इन दवाईयों का कोई भी सह प्रभाव नही होता है यह दवाइयां हमारे स्वस्थ के लिये बहुत अधिक सुरक्षित होती हैं

हकीम हाशमी जो उपयोगी जड़ी बूटियों की खोज में अपने पूरे जीवन समर्पित द्वारा सहस्राब्दियों की एक अवधि में विकसित की है, झाड़ियों एवं उप महाद्वीप के पहाड़ों पर सब भटक स्थानीय लोगों और आदिवासियों द्वारा अपनाई प्रथाओं आत्मसात किया विभिन्न क्षेत्रों से. इस प्रणाली को भी औषधीय पहलू की कई पीढ़ियों से बंद टिप्पणियों पर आधारित है. आधुनिक अनुसंधान उपकरण, जड़ी बूटी पर औषधीय अध्ययन की मदद से, हकीम हाशमी की तरह चिकित्सकों पुराने फार्मूलों को पुनर्जीवित किया तथा शक्तिशाली और नई दवाओं का शोध कर रहे हैं. यूनानी सिस्टम अब राष्ट्रीय स्वास्थ्य देखभाल प्रणाली के अनुसार, “यूनानी दवा सेक्स समस्यों के इलाज का एक अभिन्न हिस्सा है”.

हकीम हाशमी, एक प्रमुख यूनानी चिकित्सक औषधि माहिर के कौशल के अनुसार, मुख्य रूप से शरीर को दबा या उसे परेशान करने के बजाय अपनी चिकित्सा तंत्र को मजबूत बनाने, के रूप में आधुनिक चिकित्सा के लिए करते हैं. यह वह जगह है जहाँ, हमारे हर्बल उपचार अपने इज़ाफ़ा, दृष्टिकोण और अच्छी तरह से विकसित उपचार विधियों का रास्ता की वजह से दवाओं की अन्य प्रणाली से अलग खड़ा है. आज पूरी दुनिया दवा की एक अद्वितीय प्रणाली के रूप में यूनानी मान्यता दी है

यूनानी चिकित्सा में की तरह, जड़ी बूटियों के विभिन्न प्रणालियों में विभिन्न तरीकों से उपयोग किया जाता है. हालांकि उनके उपयोग का अंतिम उद्देश्य यह है कि वे सीधे हमारे शरीर रासायनिक असंतुलन को संतुलित करते हैं

सिकंदर आजम कैप्सूल

यह शिकायत होना आजकल आम बात हो गई है। गलत आचार-विचार इसका प्रमुख कारण है। इस समस्या को दूर करने के लिए सिकंदर आजम कैप्सूल बहुत अधिक प्रभावशाली है यह एक हर्बल कैप्सूल है जो लिंग आकार और कामेच्छा बढ़ाता है. यह अनूठा लिंग वृद्धि कैप्सूल समय से पहले थकना या पतन हो जाना आदि समस्याओं को भी दूर करता है. यदि आप जब प्यार करने से शर्मिंदा हो रहे हैं, वहाँ केवल एक ही विकल्प है यानी सिकंदर आजम कैप्सूल

यह प्राकृतिक रूप से लिंग की वृधि के लिए भी काम करता है। दैनिक रूप से एक कैप्सूल, नयी उमंग नया जोश पैदा करता है साथ ही पुरुषों में नपुंसकता की सारी समस्याओं को दूर करता है. सिकंदर आजम कैप्सूल, सिर्फ एक बार एक दिन में सेवन करने से यह लिंग में रक्त प्रवाह को तीर्व कर देता है और कार्पस केवेरनोसम नामक उतक में रक्त इकट्टा होकर लिंग का आकर बढ़ा देता है. सिकंदर आजम हर्बल कैप्सूल फार्मूले की मदद से आप पहले से कहीं ज्यादा बेहतर सेक्स करने में सफल होंगे. अब तक दुनिया भर के लाखों पुरुषों को प्राकृतिक रूप से लाभ पहुंचा चूका है.


Choose Your Package




बेबी टोन हर्बल कैप्सूल

शुक्राणु गिनती बढ़ जाती है.
शुक्राणु गतिशीलता को बढ़ाता है.
सेक्स की इच्छा बढ़ जाती है.
गर्भावस्था के अवसरों को बढ़ाती है
गर्भाधान की संभावना में वृद्धि
आपके हार्मोन के असंतुलन को विनियमित मदद करने के लिए आप गर्भ धारण.
सुधार शुक्राणु आकारिकी (डीएनए sperms को नुकसान से बचाता है).
45 दिनों के भीतर शुक्राणु गिनती बढ़ाने शुरू करते हैं.
उपयोगी प्रभावी रूप से एक स्वस्थ और सुरक्षित तरीके से एक बच्चा होने की संभावना को बढ़ाने के लिए.


Choose Your Package




फेज़िनिल कैप्सूल

फेज़िनिल कैप्सूल महिलाओं के यौन स्वास्थ्य में सुधार प्रदान करता है और मदद करता है :कामक्रिया के दौरान उत्साह का स्तर सुधारें और महिलाओं को उत्साहित होने में मदद करे बेहतर प्रजनन क्षमता का विकास करे
कामेच्छा बढ़ाने या बहाल सेक्स ड्राइव की कमी को दूर करे
एकाधिक संभोग सुख, तेज यौन उत्तेजना, मजबूत संभोग
अधिक सेक्स करने में रुचि, सेक्स करने में आनंद पहुंचता है
रक्त और भगशेफ के प्रवाह को उचित करता है


Choose Your Package